"हमें माफ़ करना मुस्लिम भाइयो" हम तुम्हे हमारा विरोधी मानते थे- मराठा छावा संगठन

सोशल डायरी ब्यूरो
हाल ही में महाराष्ट्र के मराठा बंधुओ ने अपनी विभिन्न मांगो को सारे महाराष्ट्र में "मराठा क्रान्ति मूक मोर्चा" का आयोजन किया था. इस मोर्चा में 'न भूतो न भविष्यति' लोगो ने सहभाग लिया था. जगह जगह मोर्चा में लाखो लोग शामिल थे. इस मोर्चा की ख़ास बात यह रही की हर जगह निकाले गए मोर्चा में मुसलमानों का बहोत बड़ा योगदान रहा. इस मोर्चा में जगह जगह मराठा बंधुओ के लिए मुसलमानों ने नाश्ता पानी का इन्तेजाम किया था.
इस मोर्चा की सबसे बड़ी बात यह रही की, ज्यादातर मुस्लिम महिलाए कभी मुसलमानों की समस्याओं वाले मोर्चा में भी नहीं जाती लेकिन छत्रपति शिवाजी महाराज के 'मावले' जब अपनी विभिन्न मांगो को लेकर रास्ते पर उतर आये तो मुस्लिम महिलाओं ने भी भरपूर साथ सहयोग दिया. पानी और नाश्ते का इन्तेजाम भी किया. इस माहौल को देखकर अठरापगड़ जाती जमाती वाली शिवशाही के आगमन का संकेत मिला.


कुलवाड़ी भूषण बहुजन प्रतिपालक छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्य में 38 प्रतिशत मुसलमान थे जो नमाज और कुरआन पठन करने वाले सच्चे और 'कट्टर मुसलमान' थे. लेकिन एक भी मुसलमान ने छत्रपति महाराज के साथ कभी गद्दारी नहीं की. यह इस बात का जीता जागता सबूत है की, छत्रपति शिवाजी महाराज मुसलमान या इस्लाम विरोधी नहीं थे. वह इंसानियत के समर्थक थे. लेकिन वर्णव्यवस्था को खतरे में आता देखकर मनुवादियों ने छत्रपति शिवाजी महाराज की छवि को मुस्लिम विरोधी बताकर प्रसारित-प्रचारित किया था. - सम्पादक



आईये छावा मराठा संगठन का सोशल मीडिया पर एक स्टेटस जो आँखों में आंसू आने से नहीं रोक पायेगा. यह मराठी में है हम  आपके जानकारी हेतु  ज्यो की त्यों कॉपी कर प्रकाशित कर रहे है.  
*माफ करा मुस्लीम बांधवांनो* 
गेली कित्येक वर्षापासुन मराठा म्हणजे मुस्लीम विरोधक म्हणुन बिंबवले जात होते आम्हीही खुळ्यागत त्याच नजरेने तुमच्याकडे पाहत होतो पण मराठा क्रांती मोर्चाला मुस्लीम बांधवांनी जो भरभरुन प्रतिसाद दिला आमच्या आई-बहींनीना मोर्चाच्या सुरुवाती पासुन शेवटपर्यत पिण्याच्या लाखो बाटल्या,बिस्कीट,अल्पोहार वगैरे मनोभावे दिल्याच पण सुमारे २० मुस्लीम संघटनानी जाहीर लेखी पाठींबा दिला खरच मन भरुन आल व आज जिंकलत तुम्ही आम्हाला यापुढे आपल्या या प्रेमाची परतफेड हा मराठा नक्की त्याच प्रकारे करेन.... 
मुस्लीम बांधवांसोबत बहुतेक सर्वच मागासवर्गीय , ओ. बी. सी. समाज संघटना , सर्वच राजकीय पक्षांतील पुढार्‍यांनी कुठल्या पक्षाने नव्हे बर का सक्रिय पाठिंबा दिला त्याचेही मनपुर्वक आभार एवढे होत असताना ज्यांच्यासाठी आजपर्यत मराठा लढला डोकी फोडली केसेस घेतल्या त्यांनी मात्र अद्यापपर्यंत 
पक्षांनी,संघटनांनी सहभाग राहू द्या साधा पाठिंबा सुद्धा दिलेला नाही.
ठरले ......... मराठे ही आता बुद्धीनेच विचार करनार....................
*अठरा पगड जातीच्या मावळ्यांची* 
*🐅🐅छावा संघटना🐅🐅* 
🐅🐅छावाप्रमुख🐅🐅 *धनंजय जाधव* 
8983904888 
🐅🐅कार्याध्यक्ष🐅🐅 
*गणेश सोनवणे-देशमुख* 
9822011112

loading...