एक और हात्या : आगरा में सरेआम SOG सिपाही अजय यादव की गोली मारकर हत्या

योगीराज में बदमाशों के हौसले बुलंद, आगरा में सरेआम SOG सिपाही अजय यादव की गोली मारकर हत्या

आगरा, उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के सत्ता में आते ही पूरे प्रदेशों में जैसे अपराधियों और बदमाशों में पुलिस का खौफ ही खत्म हो गया है, जहाँ एक ओर हर चलता फिरता आदमी एंटी रोमियो स्क्वाड का खौफ दिखा कर सड़क पर लड़के और लड़कियों की पिटाई कर रहा। ऐसा उन सभी सैकड़ों विडियो से सच साबित होता है जो रोजाना सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं।


इसी कड़ी में आज बदमाशों ने आगरा के शमशाबाद थाने के इलाके में क्राइम ब्रांच के एक सिपाही अजय कुमार यादव पर हमला बोल दिया, जिसमे अजय कुमार को कई गोलियां लगी और उनकी मौके पर ही मौत हो गयी। इस हमले में बदमाश शहीद सिपाही की सरकारी पिस्टल भी लूट कर ले गए।

जानकारी के अनुसार सिपाही अजय यादव बुधवार की शाम क्षेत्र में ड्यूटी के दौरान गश्त पर थे। इसी बीच सिपाही अजय को एक मुखबिर ने बदमाशो की सूचना दी और वो रेकी के लिए दिगनेर इलाके में पहुंच गए।

सिपाही को ये मालूम नहीं था की वो जिन बदमाशो को पकड़ने के लिए जा रहे है, उन्ही अपराधियों ने उनके लिए मौत की सुपारी ले रखी है और उन्हें ठिकाने लगाने का पूरा जाल बिछा रखा है। सिपाही जैसे ही मुखबिर द्वारा बतायी जगह पर पहुंचा तो वहां पर पहले से ही मौजूद तीन बदमाशो ने सिपाही अजय यादव पर फायरिंग कर दी।


सीधी फायरिंग में गोली सिपाही अजय यादव के सीने में जा लगी और वह बुरी तरह घायल हो गए। गोली लगने के बाद भी अजय ने बदमाशो से लोहा लिया। बदमाशो ने सिपाही अजय की पिस्टल भी लूट ली और घटना को अंजाम देकर मौके से फरार हो गए। क्षेत्रीय लोगों ने कंट्रोल रूम पर सुचना दी तो मौके पर पुलिस बल पहुंच गया और घायल सिपाही को लेकर आगरा के जी जी हॉस्पीटल में पहुंचे। जहाँ डॉक्टर ने जांच के बाद सिपाही को मृत घोषित कर दिया।

घटना में सिपाही की मौत के बाद से पुलिस बदमाशो की धरपकड़ के लिए जुट गयी है। वहीं अजय की मौत की सुचना पर हॉस्पीटल पहुंचे अन्य साथी सिपाहियों ने सिपाही की हत्या का आरोप सी ओ फतेहबाद अशोक कुमार पर लगाया। उनका आरोप है कि सीओ की बदमाशो से मिली भगत है। इस आरोप का एक वीडियो भी वायरल कर दिया गया है। विडियो वायरल होते ही पुलिस विभाग में हडकंप मच गया है। मौके पर पुलिस विभाग के तमाम आलाधिकारी भी पहुंच गए, हालांकि अभी कोई भी अधिकारी इसके बारे में बोलने को तैयार नहीं है। (दैनिक आज से )