किरण यादव का जनविरोधी गोदी मीडिया को मुहतोड़ जवाब

सोशल डायरी ब्यूरो
हाल ही में मीडिया वालो ने किरण यादव को लेकर हंगामामचाया हुआ है. एक न्यूज पोर्टल ने "नितीश की सरकार लालू यादव नहीं किरणयादव गिराएगी" इस टाइटल से खबर प्रकाशित की थी उस खबर का जवाब किरण यादव ने अपनी प्रोफाइल पर सिर्फ एक लाइन में दिया है. जो समझदारो के लिए इशारा काफी है. किरण यादव लिखती है की "आज मेरी आत्मा दुखी है नीतीश कुमार जी लालू यादव जी हिन्दुस्तान के बड़े नेता हैं आदरणिय है" और उन्होंने अगली पोस्ट में दुसरे न्यूज पोर्टल को करारा जवाब देते हुए मोदीपर भी निशाना साधा है. एक न्यूज पोर्टल ने लिखा था की जिसके पोस्ट लिखने और भाषा में कई गलतिया है ऐसी किरण यादव के 10 लाख फॉलोवर है  इसका जवाब देते हुए उन्होंने लिखा की उन्हें कोई हिरोईन नहीं बनना है और वह जानती है की उसकी भाषा और लिखाण में कहाँ गलतियाँ है. इसकामतलब साफ़ है की किरण यादव गोदी मीडिया के खिलाफ हमेशा लिखती है, लेकिन मीडिया वालो ने मीडिया को इन्ग्नोर कर उनके समर्थक और विरोधक के बारे में सारी कहानी लिखी थी. 

किरण यादव की खबरे जागरण जैसे कई अखबार और न्यूज पोर्टल पर प्रकाशित हुए लेकिन उन्होंने एक भी लिंक अपने प्रोफाइल पर शेयर नहीं की. इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है की, किरण यादव सच में समाज हित में लिखती है उसे कोई भी पब्लिसिटी की अवशाकता नहीं है. और वह उस मीडिया से नफरत करती है जो मीडिया जनता की गंभीर समस्याओं को छोड़कर नेताओं के गुण गाता है. यह बात उनके इस पोस्ट से समझ में आती है जो हम आपके लिए निचे पेस्ट किये है.

loading...

हिन्दुस्तान की न्यूज चैनल गज़ब की पनामा papersमें हिन्दुस्तान के बड़े बडा नेता के नाम हैं मोदी जी के नाम हैं भारतीय जनता पार्टी के नेता उद्योगपति के नाम हैं अमिताभ बच्चन के नाम उसके बेटा बहु के नाम इस पर क्या हुआ इससे कोई मतलब नहीं महेश साह गुजरात 14 हजार करोड़ किसका पैसा था इससे मतलब नहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के नाम पर खबर चला रही हैं 56 इंच बाले को पाकिस्तान चीन पैंट गीला कर दिया है यह हाथ पॉव पकड़ रहा है हमारे जनता को बेवकूफ बना रहा करारा जवाब दे रहा हूँ हिन्दुस्तान के सेना के पास दस दिन के गोला बारूद हैं हिन्दुस्तान के पास चार लाख सैनिक हैं जो लडाई लड़ सकता है बाकी क्या करता है यह बताने की जरुरत नहीं हिन्दुस्तान आज महंगाई से लड़ रहा है बेरोजगारी से लड़ रहा है किसानों की आत्महत्या से लड़ रहा है भ्रष्टाचार से लड़ रहा है धर्म के नाम पर हत्या से लड़ रहा है मोदी जी के झूठ से लड़ रहा है मोदी जी विदेशी के साथ मजे ले रहा है मुझे शुद्घ हिन्दी लिखकर प्रोफेसर बना है मुझे अपनी भाषा आता है मुझे पता है मैं कहां गलती करतीं हूँ

loading...