वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) चोरों डकैतों का नंगा नाच नहीं दिखने पर विभाजन अटल- अलिकस

मूलनिवासी भारतीय बहुजनो की आजादी का आंदोलन
विगठन/विभाजन के स्त्रोत के कारण विगठन/विभाजन
वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) चोरों/डकैतों का नंगा नाच नहीं दिखने पर 
विगठन/विभाजन अटल
संगठन (बामसेफ) अथवा मा. राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम का इस्तेमाल कर 
फैलता वर्चस्ववाद (ब्राह्मणवाद) नियंत्रित करने की जरुरत- भाग ७
अभय लीगल कन्सलटंसी सर्व्हीसेस ने एक पत्रक जारी कर संगठन के विभाजन और नुक्सान के संकेत दिए है. उन्होंने 01 दिसंबर को जारी किये अपने पत्रक में खुलासा किया है की,  वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) विचारधारा के सामाजिक प्रवाह के विरोध में समतावादी (आंबेडकरवादी) संगठन पागलों से बनता है, चोरों/डकैतों से नहीं l किसी भी संगठन में विगठन/विभाजन के स्त्रोत होते है l वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) विचारधारा के सामाजिक प्रवाह के विरोध में बननेवाले समतावादी (आंबेडकरवादी) संगठन में विगठन/विभाजन के ज्यादातर स्त्रोत संगठन के बाहर होते है l किंतु संगठन के बाहर के स्त्रोत तब तक विगठन/विभाजन नहीं कर सकते जब तक अंदर विगठन/विभाजन के अनुकूल कमियां-खामियां नहीं होती l वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) विचारधारा के सामाजिक प्रवाह के विरोध में बननेवाले समतावादी (आंबेडकरवादी) संगठन में विगठन/विभाजन के आतंरिक स्त्रोत विगठन/विभाजन कर सकते है l यह आतंरिक स्त्रोत ही विगठन/विभाजन के अनुकूल कमियां-खामियां होती है l



वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) विचारधारा के सामाजिक प्रवाह में बहनेवाले कार्यकर्ता नालायक होते है l मोफतखोरी की ब्राह्मणी मानसिकता से पीड़ित परिणामस्वरूप नालायकी के कारण ऐसे कार्यकर्ताओ पर वर्चस्व के लिए चोरी करने/डकैती डालने की नौबत आती है l दुसरी तरफ, वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) विचारधारा के सामाजिक प्रवाह के विरोध में बननेवाला समतावादी (आंबेडकरवादी) संगठन पागलों से बनता है, चोरों/डकैतों से नहीं l समतावादी (आंबेडकरवादी) संगठन में चोरों/डकैतों को अपना वर्चस्व दिखाई देने पर उनका नंगा नाच स्वाभाविक होता है l चोरों/डकैतों का नंगा नाच समतावादी (आंबेडकरवादी) कार्यकर्ताओ को नहीं दिखाई देने पर विगठन/विभाजन अटल हो जाता है l विगठन/विभाजन यह विगठन/विभाजन के स्त्रोत के कारण होता है l समतावादी (आंबेडकरवादी) संगठन में विगठन/विभाजन के स्त्रोत स्वाभाविक रूप से वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) चोर/डकैत होते है l यह चोर/डकैत सही जानकारी छुपाकर/चुराकर अथवा/और झूठी जानकारी प्रचारित-प्रसारित कर अथवा संगठन (के मा. राष्ट्रीय अध्यक्ष अथवा अन्य पदाधिकारियों) को देकर अपना वर्चस्व बनाने/बरक़रार रखने के प्रयास में विगठन/विभाजन करते/करवाते है l संगठन (बामसेफ) और मा. राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम का इस्तेमाल कर २७ अक्तुबर २०१६ को श्याम ०५.१६ मि. पर समतावादी (आंबेडकरवादी) कार्यकर्ताओ की चरित्रहत्या के प्रयास में सही जानकारी छुपाकर/चुराकर झूठी जानकारी सोशल मिडिया व्दारा प्रचारित-प्रसारित कर विगठन/विभाजन के स्त्रोत चोरों/डकैतों ने नंगा नाच किया l



संगठन (बामसेफ) अथवा मा. राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम का इस्तेमाल कर बामसेफ परिवार में चोर/डकैत वर्चस्ववाद (ब्राह्मणवाद) फैला रहे है जिसे नियंत्रित करने की जरुरत होने के कारण अलीकस व्दारा चलाये जा रहे ‘जानकार बनाओ’ अभियान के तहत कार्यकर्ताओ को वर्चस्ववादी (ब्राह्मणवादी) नियंत्रण/प्रभाव का mechanism (प्रक्रिया) समझाने का प्रयास किया जा रहा है l
-अभय लीगल कन्सलटंसी सर्व्हीसेस
०९ दिसंबर २०१६