अखलाख हात्याकांड : बिसाहडा में मंदिर के लाउडस्पीकर से एक बार फिर हुआ एेलान

नोएडा। बिसाहड़ा गांव में एक बार फिर मंदिर के लाउडस्पीकर से हिंदू परिवारों को एकजुट होने का एेलान किया गया। एेलान के बाद हिंदू परिवारों की महिलाएं मंदिर में इकट्ठी हुर्इंं। महिलाआें ने अखलाक के भार्इ जान मोहम्‍मद कीगिरफ्तारीकी मांग को लेकर धरना दिया। उन्‍होंने एेलान किया कि जब तक जान मोहम्मदगिरफ्तारीनहीं होता, धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा। उन्‍होंने यह भी कहा क‍िगिरफ्तारी न होने परएक अक्टूबर से सभी महिलाएंं भूख हड़़ताल करेंगी।

बिसाहड़ा गांव में बुधवार सुबह शिव मंदिर के परिसर में धीरे-धीरे महिलाएं एकत्र होने लगीं। यहां महिलाआें की संख्या कम होने पर साध्वी हरसिद्धि गिरी ने मंदिर के लाउडस्पीकर से गांव की हिंदू परिवारों को एकत्र होने का आह्वान किया। इसके बाद मंदिर परिसर में महिलाओं व गांव के लोगों की संख्या बढ़ने लगी। करीब एक से डेढ घंटे में मंदिर परिसर में महिलाओं व पुरुषों की भीड़ एकत्रित हो गई।



अखलाक के भार्इ कीगिरफ्तारी की मांग
मंदिर परिसर में धरने पर बैठी महिलाआें ने कहा कि जब तक जान मोहम्मदकीगिरफ्तारीनहीं होती, तब तक वेे धरने पर से नहीं उठेंंगी। इतना ही नहीं महिलाआें ने एेलान किया किगिरफ्तारी न होने परवे अनिश्चीतकालीन भूख हड़ताल करेंगी।



दो दिन तक जगह बदलकर जारी रहेगा धरना
साध्वी हरसिद्धि गिरी ने कहा की वे शांतिपूर्वक धरना दे रहे हैंं। एेसे में वे नहीं चाहते की कोर्इ अंहिसा हो। इसके लिए उन्‍हें पुलिस या प्रशासन की आेर से परेशाननकिया जाए। वे दो दिन अलग-अलग जगहों पर धरना देंगे। उन्‍होंने कहा क‍ि वे एक अक्टूबर से मंदिर में आमरण अनशन पर बैठेंगे।



सूचना मिलते ही पहुंची एलआर्इयू
महिलाआें के धरने पर बैठने का पता लगते ही दोपहर को जारचा कोतवाली प्रभारी प्रदीप कुमार आैर एलआर्इयू की टीम बिसाहड़ा के मंदिर पर पहुंची। यहां उन्होंने मंदिर परिसर में धरने पर बैठी महिलाओं से बातचीत कर हटने की गुजारिश की, लेकिन महिलाआें के न मानने व कोर्इ हल न निकलने पर वेे वापस लौट गए ।
फेसबुक पर हमारा पेज लाइक करने के लिए यहा क्लिक करे..
हिदुुआें का दमन कर रही है ये सरकार
मंदिर में धरने पर बैठी साध्वी ने कहा कि उत्तरप्रदेश सरकार आजम खां के कहने पर चल रही है। यही कारण है कि इसमें हिंदुुआें का दमन किया जा रहा है। एक पक्ष का खुला सपोर्ट किया जा रहा है। बिसाहड़ा गांव में गोहत्या हुई है। गोमूत्र व गंगा जल से गांव का शुद्धिकरण किया जाना था, लेकिन प्रदेश सरकार ने इसे रोक दिया। साथ ही साध्वी ने कहां कि जब तक गो हत्यारे जेल नहीं जाते,यह धरना जारी रहेगा।(पत्रिका से साभार)