कुरआन का अपमान, राकेश जैसवाल, राम कतरा और पंकज गिरफ्तार

कुरआन का अपमान, राकेश जैसवाल, राम कतरा और पंकज गिरफ्तार

कई सालो से पटाखो को क़ुरान के वर्क से बनाने के कई मामले सामने आये जिसमे कुछ जगह कार्यवाही हुई और ज्यादातर में ख़ामोशी इख़्तियार कर ली गयी, जिसका बड़ा नतीजा मुबारकपुर में देखने को मिला।

मुबारकपुर की कई दुकानों पर कुरआने मुक़द्दस के औराक़ से बनाए गए कागज़ की प्लेट बरामद होने पुरे इलाक़े में आक्रोश फैल गया।

दिन में तीन बजे से शुरू होने वाला यह हंगामा रात नौ बजे तक जारी रहा। इस दौरान नाराज़ लोगों की भीड़ ने नगर पालिका आफिस में घुस कर ज़बर दस्त तोड़ फोड़ की, एक लेखपाल की मोटर साइकिल जला दी गई ।कागज़ की प्लेट के थोक ब्योपारी फक़ीर चंद की दुकान में भी आग लगा दी गई ।

पुलिस ने तीन दुकानदारों राकेश जायसवाल उर्फ फक़ीर चंद साकिन पुरा रानी, श्री राम मु.कटरा और पंकज को क़रआन की बे हुर मती के इल्ज़ाम में गिरफ्तार कर लिया है । डी. एम व पुलिस कप्तान दया नंद मिश्रा समेत सभी उच्च अधिकारियों व एक दर्जन थानों की पुलिस यहां खैमा ज़न है ।

 मुबारकपुर पुलिस छावनी में तबदील हो चुका है। सभी दुकानें बंद हैं । नाराज़ लोगों की भीड़ पर पुलिस के लाठी चार्ज कई लोग ज़खमी हो गए जिससे आक्रोशित होकर लोगों ने पुलिस के खिलाफ जम कर नारे बाज़ी की और जगह जगह जुलूस निकाला कर क़ुरान के अपमान के विरुद्ध प्रदर्शन किया।



फिलहाल हालात क़ाबु में लेकिन स्थिति विस्फोटक बनी हुई है । पुलिस इमानदारी से क़ुसूर वारों के खिलाफ कार्रवाई करने में लगी हुई लेकिन कुछ मनबढ़ क़िस्म के लोग सारा फैसला खुद ही करने पर आमादा हैं जिससे हालात बिगड़ रहे हैं।

दुआ करिये मुबारकपुर में अमन कायम हो जाये।
मुर्दा हो गयी है मेरी कौम और अल्लाह जाने कब ज़िंदा होगी। अब यह हालात हो गए है कि क़ुरआन शरीफ की सरे आम बेहुरमती की जा रही है और हम ख़ामोशी से सब होता देख रहे है। मैं किसी को भड़का नहीं रहा हु बस अपनी मुर्दा हो चुकी कौम को उसका वक़ार याद दिलाने की कोशिश कर रहा हु।

आज जहा दुश्मने इस्लाम इस हद तक गिर रहे है उसकी वजह हमारी क़ुरआन और उसके सबक से दुरी है। क़ुरआन को ज़ुसदान से निकाल कर पढ़ो और दुनिया को इसका असली पैगाम बताओ।
अल्लाह क़ुरआन की बेहुरमती करने वालो को ही ईमान की दौलत से नवाज़ दे।।।
आमीन
(हिंदी उस्ताद से)